Asked

पृथ्वी का सारा लिथियम कहां गया?

1 Answer
Sayed

बिग बैंक मॉडल की सफलता ने ऐसे हल्के तत्वों के प्रचुरता का अनुमान लगाने में मदद की है जिन्हें देखा जा सकता है। लगभग 13.7 बिलियन सालों पहले, नाभिकीय संलयन के कारण लिथियन और हीलियम का उत्पादन हुआ था। जब बात हाइड्रोजन और हीलियम की सटीकता की गणना करने की आती है, तो बिग बैंग मॉडल पर आधारित परिणाम सटीक होते हैं, लेकिन लिथियम के साथ हमेशा एक समस्या रहती है। यह मानक मॉडल के अनुमान से तीन से चार गुना से भी कम है। तो सवाल ये है कि पृथ्वी का सारा लिथियम कहां गया?

Answer Image

बिग बैंक के अनुमान का परीक्षण:

तारों और गैस के बादलों में मौजूद ड्यूटेरियम, हीलियम और लिथियम की वर्णक्रमीय रेखाओं का अध्ययन करके बिग बैंक के अनुमानों का विश्लेषण किया जाता है। इसके परिणाम तब काफी अच्छे आते हैं जब गैस के बादल और तारे एक दूसरे से बहुत दूर होते हैं। प्रकाश की परिमित गति के अनुसार, दूरी जितनी ज्यादा होगी, उतना ही ज्यादा समय पहले तक के समय के बारे में पता लगाया जा सकता है। इसलिए, एक तारे के पास अन्तःस्फोट जितना कम समय होगा, तो वह अतिरिक्त हीलियम का उत्पादन करते समय उतनी ही अधिक ड्यूटेरियम और लिथियम को नष्ट करेगा।

पहला संभावित कारण:

खगोल वैज्ञानिक, कोरिन चारबोनल और फ्रांसेस्का प्रीमास ने यह पता लगाया कि अपने विकास के दौरान एक हेलो तारे के सतह पर क्षीणता के चरण से गुजरना होगा। तारे के जलने के दौरान, इस प्रक्रिया में लिथियम की अधिक मात्रा का उपयोग होता है, इसलिए हम यह मान सकते हैं कि अधिकांश लिथियम इन जलते तारों की सतह पर समाप्त हो गये हैं। एक खगोल वैज्ञानिक, ब्रायन फिल्ड ने भी यह निष्कर्ष निकाला कि यदि तारे की आयु कम है और तारे के सतह का तापमान 2.5 X 106 केल्विन तक बढ़ जाता है, तो इससे भारी मात्रा में लिथियम नष्ट होता है।

दूसरा संभावित कारण:

कुछ वैज्ञानिक दावा करते हैं कि लंबे समय से ब्रह्माण्ड में किरणों के तारों की सतह पर पड़ना लिथियम की प्रचुरता का कारण हो सकता है। लेकिन इस बात का अभी तक पता नहीं चल पाया है कि तारे की सतह का कितनी डिग्री तापमान लिथियम को नष्ट कर सकते हैं और कितनी मात्रा में नष्ट कर सकते हैं।

तीसरा संभावित कारण:

चीन में स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ मॉर्डन फिज़िक्स के वैज्ञानिकों ने इस समस्या के लिए एक शानदार समाधान ढूंढ़ निकाला है। बिग बैंक की न्यूक्लियोसाइंथेसिस की मुख्य धारणा यह है कि नाभिक एक थर्मोडाइनामिक संतुलन प्रक्रिया का पालन करता है। उनका वेग, जो थर्मोन्यूक्लियर की प्रक्रिया दर की गणना करने में मदद करता है, वह मैक्सवेल-बोल्ट्जमैन के पारंपरिक वितरण के अनुसार होता है। इस सिद्धांत में ध्यान रखने योग्य बात यह है कि यह अभी तक अज्ञात है कि बिंग बैंग हॉट प्लाज्मा के तेजी से विस्तार के कारण क्या नाभिक कठिन परिस्थितियों में भी पारंपरिक वितरण का अनुसरण करता है।

निष्कर्ष:

हाउ और ही के अनुसार, लिथियम का नाभिक इसी तरह प्रक्रिया नहीं करेगा और उन्हें मैक्सवेल-बॉल्टजमैन मॉडल का संशोधित संस्करण प्रस्तुत किया, जिसे "non-extensive statistics" के नाम से भी जाना जाता है। ये लेखक ये दावा करते हैं कि वे लिथियम, हीलियम और ड्यूटेरियम के मौलिक प्रचुरता का अनुमान लगा सकते हैं। अगर अब वे लिथियम के मौलिक प्रचुरता का अनुमान लगा लेते हैं। यदि यह नया तरीका लिथियम के प्रचुरता के इतिहास को सुलझाने में मदद करती है तो वह दिन दूर नहीं है, जब हमारे ब्रह्माण्ड की रचना के रहस्य को हल करने के रास्ते में बिग बैंक थ्योरी एक कदम और आगे आ जाएगी।

Feeds
Feeds
Latest Questions
Top Writers